25 Anjeer Khane ke Fayde पुरुषों के लिए अंजीर लाभ

अंजीर एक फल हैं, जो पक जाने पर पेड़ से गिर जाता है. अंजीर खाने के फायदे जानकर आप हैरान हो जायेंगे. अंजीर फल रसीला और गूदेदार होता है। इसका रंग हल्का पीला, गहरा सुनहरा या गहरा बैंगनी हो सकता है। अंजीर अपने सौंदर्य एवं स्वाद के लिए प्रसिद्ध अंजीर एक स्वादिष्ट, स्वास्थ्यवर्धक और बहुउपयोगी फल है। यह विश्व के ऐसे पुराने फलों में से एक है,

अंजीर को लोग मेवे के रूप में भी इस्तेमाल करते हैं. और सूखे अंजीर को अगर 2-3 घंटे पानी में भिंगो के फिर इसका उपयोग करेंगे तो ये शीतल फल की तरह काम करता हैं. अंजीर में बहुत सारे चमत्कारी तत्व पाए जाते हैं.आइए इस पोस्ट में हम अंजीर खाने के 25 फायदे के बारे में समझते हैं

पुरुषों के लिए अंजीर लाभ Anjeer Khane ke Fayde

अंजीर मधुर, और पित्त-वात का शमन करने वाला होता है यह बलकारक और वृष्य भी होता है इसलिए इसके बहुत सारे फायदे हैं.

1.शारीरिक दुर्बलता में लाभकारी-

अंजीर ताज़ा भी मिल जाये तो सेवन कर सकते हैं या फिर सूखे हुये अंजीर को दूध में अच्छे से पका कर ले सकते हैं. अंजीर हमारे शरीर की दुर्बलता को खत्म करता हैं. और शरीर को मजबूती प्रदान करता है.

2.पुरुषों के लिए अंजीर लाभ-

अंजीर को प्रयोग ज्यादातर यौन शक्ति को बढ़ाने के लिए पुराने समय से ही किया जाता है. अंजीर को दूध के साथ लेने पर अच्छे परिणाम मिलते हैं. 1-2 अंजीर को एक गिलास दूध में डालकर रख दें और रात भर रखे रहने दें फिर सुबह खा लें शरीर पुष्ट होगा और यौन शक्ति बढ़ेगी.

3.दमा में लाभकारी-

कफ वाला दमा जिसको भी होता है उसके लिए अंजीर का सेवन लाभकारी होता है. इससे कफ बाहर आ जाता है और रोगी को शीघ्र ही आराम भी मिलता है. 1 से 2 सूखे अंजीर सुबह-शाम खाने से कफ की मात्रा घटती है, शरीर में नई शक्ति आती है और दमा रोग मिटाता है.

4.थकान को कम करता है-

किसी किसी को हमेशा थकान महसूस होती रहती है तो उन्हें भी अंजीर का सेवन जरुर करना चाहिए. 1-2 अंजीर को एक गिलास दूध में डालकर रख दें और रात भर रखे रहने दें फिर सुबह खा लें. शरीर पुष्ट होगा और थकान दूर होगी.

5.कब्ज को दूर करता है-

लोगों को कब्ज की ज्यादा परेशानी होती है तब अंजीर का सेवन करना चाहिए. अंजीर कब्ज को दूर करने में बहुत लाभकारी होता है.

6.वजन कम करने में सहायक-

वजन कम करने में भी अच्छा साधन है. अंजीर का सेवन लाभप्रद है. अंजीर में वसा नहीं होता इसलिए इससे वजन कम करने में बहुत सहायता मिलती है इसलिए मोटे लोगों को अंजीर खाने की सलाह ज्यादा दी जाती है. अंजीर को कभी भी दूध के साथ नहीं लेना चाहिए. क्योंकि दूध के साथ लेने से ये आपका वजन बढाती है.

7.फेफड़ों के रोग-

फेफड़ों के रोगों में पांच अंजीर एक गिलास पानी में उबालकर छानकर सुबह-शाम पीना चाहिए। अंजीर का सेवन करने से सूखी खांसी दूर हो जाती है। अंजीर पुरानी खांसी वाले रोगी को लाभ पहुंचाता है क्योंकि यह बलगम को पतला करके बाहर निकालता रहता है। 2अंजीर के फलों को पुदीने के साथ खाने से सीने पर जमा हुआ कफ धीरे-धीरे निकल जाएगा। पके अंजीर का काढ़ा पीने से खांसी दूर हो जाती है।

8.दांतों और मसूढ़ों के रोग-

अंजीर का दूध रुई में भिगोकर दुखते दांत पर रखकर दबाएं। अंजीर के पौधे से दूध निकालकर उस दूध में रुई भिगोकर सड़ने वाले दांतों के नीचे रखने से दांतों के कीड़े नष्ट होते हैं तथा दांतों का दर्द मिट जाता है।

9.मसूढ़ों से खून का आना-

अंजीर को पानी में उबालकर इस पानी से रोजाना दो बार कुल्ला करें। इससे मसूढ़ों से आने वाला खून बंद हो जाता है तथा मुंह से दुर्गन्ध आना बंद हो जाती है। मुंह के छाले – अंजीर का रस मुंह के छालों पर लगाने से आराम मिलता है।

10.त्वचा के विभिन्न रोग-

कच्चे अंजीर का दूध समस्त त्वचा सम्बंधी रोगों में लगाना लाभदायक होता है। अंजीर का दूध लगाने से दिनाय (खुजली युक्त फुंसी) और दाद मिट जाते हैं। बादाम और छुहारे के साथ अंजीर को खाने से दाद, दिनाय (खुजली युक्त फुंसी) और चमड़ी के सारे रोग ठीक हो जाते है।

11.कुष्ठ सफेद दाग-

अंजीर के पेड़ की छाल को पानी के साथ पीस लें, फिर उसमें 4 गुना घी डालकर गर्म करें। इसे हरताल की भस्म के साथ सेवन करने से श्वेत कुष्ठ मिटता है। अंजीर के कच्चे फलों से दूध निकालकर सफेद दागों पर लगातार 4 महीने तक लगाने से यह दाग मिट जाते हैं। अंजीर के पत्तों का रस श्वेत कुष्ठ (सफेद दाग) पर सुबह और शाम को लगाने से लाभ होता है। अंजीर को घिसकर नींबू के रस में मिलाकर सफेद दाग पर लगाने से लाभ होता है।

12.फोड़े-फुंसी एवं गिल्टी-

अंजीर की पुल्टिस बनाकर फोड़ों पर बांधने से यह फोड़ों को पकाती है। गिल्टी में अंजीर को चटनी की तरह पीसकर गर्म करके पुल्टिस बनाएं। 2-2 घंटे के अन्तराल से इस प्रकार नई पुल्टिश बनाकर बांधने से `बद´ की वेदना भी शांत होती है और जल्दी पक जाती है।

13.खून और वीर्यवद्धक-

सूखे अंजीर के टुकड़ों एवं बादाम के गर्भ को गर्म पानी में भिगोकर रख दें फिर ऊपर से छिलके निकालकर सुखा दें। उसमें मिश्री, इलायची के दानों की बुकनी, केसर, चिरौंजी, पिस्ते और बलदाने कूटकर डालें और गाय के घी में 8 दिन तक भिगोकर रखें। यह मिश्रण प्रतिदिन लगभग 20 ग्राम की मात्रा में खाने से कमजोर शक्ति वालों के खून और वीर्य में वृद्धि होती है। अंजीर को अधिक मात्रा में सेवन करने से शरीर शक्तिशाली होता है, और मनुष्य के संभोग करने की क्षमता भी बढ़ती है। पेशाब का अधिक आना – 3-4 अंजीर खाकर, 10 ग्राम काले तिल चबाने से यह कष्ट दूर होता है।

14.जीभ की सूजन-

सूखे अंजीर का काढ़ा बनाकर उसका लेप करने से गले और जीभ की सूजन पर लाभ होता है।

15.क्षय यानी टी.बी के रोग-

इस रोग में अंजीर खाना चाहिए। अंजीर से शरीर में खून बढ़ता है। अंजीर की जड़ और डालियों की छाल का उपयोग औषधि के रूप में होता है। खाने के लिए 2 से 4 अंजीर का प्रयोग कर सकते हैं।

16.गले के भीतर की सूजन-

सूखे अंजीर को पानी में उबालकर लेप करने से गले के भीतर की सूजन मिटती है।

17.शरीर की गर्मी-

पका हुआ अंजीर लेकर, छीलकर उसके आमने-सामने दो चीरे लगाएं। इन चीरों में शक्कर भरकर रात को ओस में रख दें। इस प्रकार के अंजीर को 15 दिनों तक रोज सुबह खाने से शरीर की गर्मी निकल जाती है और रक्तवृद्धि होती है।

18.तिल्ली (प्लीहा) के रोग में-

अंजीर 20 ग्राम को सिरके में डुबोकर सुबह और शाम रोजाना खाने से तिल्ली ठीक हो जाती है।

19.कमर दर्द-

अंजीर की छाल, सोंठ, धनियां सब बराबर लें और कूटकर रात को पानी में भिगो दें। सुबह इसके बचे रस को छानकर पिला दें। इससे कमर दर्द में लाभ होता है।

20.प्रसव के समय की पीड़ा-

प्रसव के समय में 15-20 दिन तक रोज दो अंजीर दूध के साथ खाने से लाभ होता है।

21.प्रदर रोग-

अंजीर का रस 2 चम्मच शहद के साथ प्रतिदिन सेवन करने से दोनों प्रकार के प्रदर रोग नष्ट हो जाते हैं।

22.बच्चों का यकृत (जिगर) बढ़ना-

4-5 अंजीर, गन्ने के रस के सिरके में गलने के लिए डाल दें। 4-5 दिन बाद उनको निकालकर 1 अंजीर सुबह-शाम बच्चे को देने से यकृत रोग की बीमारी से आराम मिलता है।

23.फोड़ा सिर का फोड़ा-

फोड़ों और उसकी गांठों पर सूखे अंजीर या हरे अंजीर को पीसकर पानी में औटाकर गुनगुना करके लगाने से फोड़ों की सूजन और फोड़े ठीक हो जाते हैं।

24.सिर का दर्द-

सिरके या पानी में अंजीर के पेड़ की छाल की भस्म मिलाकर सिर पर लेप करने से सिर का दर्द ठीक हो जाता है।

25.सर्दी जाड़ा जुकाम-

लगभग 1 ग्राम का चौथा भाग की मात्रा में अंजीर को खिलाने से सर्दी या शीत के कारण होने वाले हृदय और दिमाग के रोगों में बहुत ज्यादा फायदा मिलता है। जुकाम – पानी में 5 अंजीर को डालकर उबाल लें और इसे छानकर इस पानी को गर्म-गर्म सुबह और शाम को पीने से जुकाम में लाभ होता है।

यह भी पढ़ें- Lahsun khane ke Fayde aur Nuksan

यह भी पढ़ें- Tamatar ke fayde रोज एक टमाटर खाने के फायदे,

महिलाओं के लिए अंजीर के फायदे

महिलाओं में अक्सर पीरियड के दौरान ज्यादा रक्त स्राव होने की वजह से एनीमिया की शिकायत भी हो जाती है। जिन लोगों में खून कम होता है तो उनमें एनीमिया की शिकायत देखी जाती है तो खून की कमी को पूरा करने के लिए अंजीर का सेवन करना फायदेमंद रहता है। यह खून भी बढ़ाता है और शारीरिक दुर्बलता भी दूर करता है।

गर्म दूध में अंजीर खाने के फायदे

अंजीर एक ऐसा फल है जो जितना मीठा है। उतना ही लाभदायक भी है।अंजीर के सूखे फल बहुत गुणकारी होते हैं। अंजीर खाने से कब्ज दूर हो जाती है। गैस और एसीडिटी से भी राहत मिलती है। साधारण कब्ज में गरम दूध में सूखे अंजीर उबाल कर सेवन से सुबह दस्त साफ होता है। इससे कफ बाहर आ जाता है।

अंजीर खाने के नुकसान

यह तो सभी जानते हैं कि अंजीर की तासीर गर्म होती है। इसलिए, तय मात्रा से ज्यादा अंजीर खाने से नुकसान भी हो सकता है, जो इस प्रकार है प्रतिदिन दो-तीन सूखी अंजीर खाना पर्याप्त है। इसे रातभर पानी में भिगोकर अगली सुबह खाना चाहिए। अगर अंजीर को बिना भिगोए या जरूर से ज्यादा खाया जाता है, तो शरीर में गर्मी हो सकती है और नाक से खून आ सकता है।
अंजीर में फाइबर ज्यादा होता है, इसलिए अधिक खाने से दस्त की समस्या हो सकती है।
अधिक अंजीर खाने से आंतों व पेट में दर्द हो सकता है।

1 दिन में कितना अंजीर खाना चाहिए

दो या तीन अंजीर का सेवन करना चाहिए.

रात को अंजीर खाने के फायदे

रात को सोने से पहले 3 से 4 पके अंजीर दूध में उबालकर उनका सेवन करने से आप कब्ज और बवासीर की प्रॉब्लम से छुटकारा पा सकते हैं।

भीगे अंजीर खाने के फायदे

पानी में भीगी अंजीर खाने से डायबिटीज, अस्थमा, एनीमिया, कब्ज में राहत मिलती है, शरीर की हड्डियां मजबूत होती हैं और हमारी इम्युनटी भी बढ़ती है।

मर्दाना ताकत के लिए अंजीर कैसे खाएं?

चार अंजीर थोड़े से पानी में चार घंटे भिगोएं, फिर यह पानी और अंजीर एक गिलास दूध में उबाल कर नित्य रात को सेवन करें। मर्दाना शक्ति बहुत बढ़ जाएगी।

अंजीर गर्म है या ठंडा?

सर्दी के मौसम में अंजीर खाने की सलाह दी जाती है क्योंकि यह शरीर को गर्म रखता है । आपको यह जानकर आश्चर्य होगा कि इसकी गर्म प्रकृति के कारण रेटिनल ब्लीडिंग, रेक्टल ब्लीडिंग और योनि से हल्का रक्तस्राव भी हो सकता है।

क्या मैं रोज अंजीर खा सकती हूं?

आपको सूखे अंजीर को कम मात्रा में खाना चाहिए या कब्ज के लिए कभी-कभी घरेलू उपचार के रूप में उनका उपयोग करना चाहिए । अंजीर के लाभों का लाभ उठाने के लिए, आप अपने आहार में शामिल करने के लिए ताजा अंजीर, सूखे अंजीर, अंजीर के पत्ते, या अंजीर के पत्तों की चाय खा सकते हैं।

अंजीर को पानी में क्यों भिगोते हैं?

अंजीर या अंजीर पानी में भिगोने से बेहतर स्वास्थ्य लाभ मिलता है । पहले से भिगोने से अंजीर में मौजूद घुलनशील फाइबर सामग्री को तोड़ने में मदद मिलती है। यह शरीर में ग्लूकोज के अवशोषण में देरी करने में भी मदद करता है

दोस्तों हमने इस पोस्ट में आपको अंजीर खाने के फायदे ( Anjeer Khane ke Fayde ) के बारे में जानकारी दे दी है हमें उम्मीद है कि आपको यह पोस्ट हेल्पफुल साबित होगी

सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है. यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है. अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें.

error: Content is protected !!